Sadbhavana (सदभावना)

Godhra Burning train
(Image courtesy: Google)

                                             क्या मायने है 'सदभावना' के वोह क्या जाने ?
                                             जिन्होंने हो जलाये बेगूनाहों के आशियाने ?
                                             विकास के आड़ में हर पाप धुल जायेंगे,
                                             क्या सोचते हो हम सब भूल जायेंगे ?

                                             मजहब के नाम पर बाटें लोग तुमने 
                                             कितने शरीर तलवारोंसे काटें तुमने 
                                             भड़काकर धर्मअन्धोंको
                                             कितने गले छाटे  तुमने 
                                              
                                             तमाशा कर यह छप्पन घंटो का 
                                             तुमने खुदका तमाशा बना दिया 
                                             याद दिला दी उन डरावने लम्होकी 
                                              गहरे जखमोंको फिरसे जगा दिया 

                                            सबको मिलता है दूसरा मौका
                                            तुमको भी मिल जाना  था 
                                            धोती पहेले ही उतर चुकी जब 
                                            टोपी को  क्यूं ठुकराना था ?

                                            सदभावना का तुम्हारा मिशन  
                                            बस नाटक बन कर रह गया 
                                            खून से लथपथ तुम्हारा दामन 
                                            धुलते-धुलते रह गया




                                            -      दीपबाझीगर  

                                             
                                              
                   ( This poetry is about Narendra Modi's Sadbhavana Mission)                                            

Comments

  1. Very well written.... and in fact it showcases the reality!!

    ReplyDelete
  2. wow! very nice! can feel the anger and agony of common man!

    ReplyDelete
  3. I am not Narendra Modi supporter any more, still I can not agree to all you said. Well, we have right to differ and still be together.

    ReplyDelete
  4. hmm ...i agree wid u..u can hv difference of opinion..thanks Mr.Bharat

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

Kashedi Ghat Ghost

Swaroop Paha, Vishwaroop Pahu Naka

Deepbaazigar versus Stocksbaazigar