Floating Stone (तैरता पत्थर)

Floating stone

तैरता पत्थर

यूँ तो हमने पत्थरो को भी देखा है तैरते हुए 
कब देखेंगे तुम्हे हमपर निगाहे फेरते  हुए 
पत्थर दिल ओ हमदम हमनवाज,
आ भी जाओ खुशबू बिखेरते हुए 

मेरी मोहोब्बत पत्थर पर लिखी लकीर है 
पत्थरो से छलनी ये दिल रमता फकीर है 
लाश-ए-दीपबाझीगर  तैरेगी यूँही पानी में एक दिन 
पत्थर से दिल लगानेवालो की शायद यही तकदीर है 

- दीपबाझीगर 

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

Kashedi Ghat Ghost

Swaroop Paha, Vishwaroop Pahu Naka

Deepbaazigar versus Stocksbaazigar