ILTAJA

                                                           इल्तजा 

(गूगल इमेज)


 घुसाके खंजर चीर के सीना, 
 निकाल के फेकू दिल ये कहाँ ?
 जब जर्रे जर्रे तू है मौजूद,
 दर्द से निजाद पाऊं कहाँ ?

 चुभते काटो से लहुलुहान रूह

 घसीट ज़िन्दगी ले जाऊ कहाँ ?
दर्द मिले न, मिले मौत-ए- सुकून
 बेवक्त वो क़यामत मिले कहाँ ? 

 गर है तू सचमुच कहींपर,
 

सुनले मेरी यह इल्तजा
  मिटा दे दिल से दर्द-ए-इश्क
या मुझको ही मौला दे मिटा 



                                                    - दीपबाझीगर                          
                                

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

Kashedi Ghat Ghost

Swaroop Paha, Vishwaroop Pahu Naka

Deepbaazigar versus Stocksbaazigar