बादल

बादल 

गम-ए-बादल दिल पर डेरा जमाये बैठे है
तेरे फुरकत में हम सबकुछ लुटाके बैठे है
न है चैन-ओ-सुकून मेरे मन को
तेरी राहों में नजरे झुकाके बैठे है
कब हटेगा ये घना बादल जुदाई का
तेरे दीदार की उम्मीद लगा बैठे है
आफ़ताब -ए -इश्क के रोशनी के खातर
दिल का चिलमन उठाके बैठे है

- दीपबाज़ीगर 
                                                             
                          



Comments

  1. बहुत खूब,हट जायेंगें बादल सब साफ नज़र आएगा। सुंदर...

    ReplyDelete
  2. Bahut sundar...Love the words in this one...Charming!

    ReplyDelete
  3. Thanks Saru :)
    Urdu words in Hindi poetry is always a treat :)

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

Kashedi Ghat Ghost

Swaroop Paha, Vishwaroop Pahu Naka

Deepbaazigar versus Stocksbaazigar